आनंद कहीं भी आ सकता है… गुस्सा किसी पर भी आ सकता है…

आनंद– कहीं भी आ सकता है… गुस्सा– किसी पर भी आ सकता है… इन दोनों को…

आदर्श जीवन मेरे लिए अब वही है जिसमें मनुष्यों की ज़रूरत और उनका साथ शून्य हो जाए!

अगर जीवन मरण का सवाल न हो तो नरक बन चुके दिल्ली-एनसीआर में अपने जीवन के…

नींद, कैंसर, कोरोना और ज़िंदगी!

चीन हमारे वक्त का सबसे महत्वाकांक्षी और सबसे ताकतवर मुल्कों में से एक है. उनने अब…

रोजाना एक नींबू पीकर कैंसर का खतरा टाल सकते हैं!

आज विश्व कैंसर दिवस है। कैंसर हमें भी हो सकता है। आपको भी। हो सकता है…

अब ये अक्सर लगने लगा है कि…

-वक़्त चलता है, हम ठहरे हुए होते हैं। पर लगता है जैसे हम चल भाग रहे…

जब ओशो को बेड़ियों, हथकड़ियों और ज़ंजीरों से जकड़ कर विभिन्न जेलों मे घुमाया गया था…

Ashutosh Rana : ओशो और आदर्श अनुयायी.. आपको शायद याद हो अमेरिका में ओशो को बिना…

पूजा भी कोई नियम थोड़े ही है! पूजा प्रेम है… जब आता है, आता है…

रामकृष्ण पूजा करते थे। पुजारी थे दक्षिणेश्वर में। उनको पुजारी रखकर बड़ी भूल हो गई। क्योंकि…

हम बस रोबोट हैं!

हम अपनी मर्जी से जीते हैं, ये एक भ्रम है। हम बस रोबोट हैं। जो टास्क…

हमारा शरीर असीम संभावनाओं का भंडार है, इसको साधने का गुण सीखना चाहिए

शराब बंद किया तो शरीर भोजन के नशे की गिरफ्त में आ गया! भोजन भी एक…

जीवन की जो परिभाषा हमने गढ़ रखी है, वह काफी संकुचित और स्थानीय है

भड़ासानंद का विकास, ब्रह्मांड और अध्यात्म चिंतन…. जरूरी नहीं कि जीवन वहीं हो जहां कार्बन हो……