ये मन है!

कोई नहीं। मन है। उड़ान भरता है। सपने देखता है। गिरता है। जख्मी होता है। उठता…

मार्च ऑन चिड़ियों, हम तुम्हारे साथ हैं!

Yashwant Singh : दिल्ली लौटने का दिल नहीं कर रहा। गांव में इतना ऑक्सीजन है कि…

कभी कभी मेरे कपार में खयाल आता है कि….

कभी कभी मेरे कपार में खयाल आता है कि…. ये जो पूरा ब्रह्मांड है, ये जो…

नशे से कौन बच सका है..

ना सोना साथ जाएगा ना चांदी जाएगी… सत्ता, धन, ताकत, शोहरत, राजपाट, सिंहासन से लंबे समय…

घरबार और हिंदी!

गुरूजी : बताओ ”घरबार” किसे कहते हैं, एक पति के जीवन में इसके महत्व की विवेचना…

भड़ास आश्रम की कुछ माह पहले की दो पिक