अनोखा सफर – एक अमेरिकी स्वामी की आत्मकथा

भगवत पुराण के अनुसार जैसे किसी वृक्ष की जड़ में पानी देने से वह पूरे पौधे में चला जाता है, उसी तरह आत्मा जग जाये, तो हर जीव के प्रति हमारा प्यार भी जग जाता है. यही सनातन धर्म है. सार तत्वों को जानना ही है सनातन धर्म. संत या साधु सार ग्रही होते हैं. यह सार प्रेम है. इस प्रेम में हर जीव भगवान का अंश लगता है. चैतन्य प्रभु कहते हैं कि जागो, अपने अंदर के सार तत्व को पहचानो. यह हो जाये, तो आप चाहे जिस पेशे में हों, सांसारिक हों या साधु, दुनिया में जहां भी रहेंगे, खुश रहेंगे. ब्रह्मा सूत्र बताता है कि दुनिया में हर जीव आनंद की तलाश में है. चींटी व मच्छर भी. यानी जहां जीवन है, वहां आनंद की तलाश है. पर यह आनंद हमारे स्वयं की प्रवृत्ति है. यह बात पूरे ब्रह्मांड में लागू होती है.

स्वामी राधानाथ

शुक्रिया हरिवंश जी… एक अमेरिकी स्वामी की आत्मकथा पढ़ाने के लिए. मेरे लिए नए साल का यह शानदार तोहफा है. लेखक हैं अमेरिका के रिचर्ड नामक सज्जन जो अब राधानाथ स्वामी कहलाते हैं. उनकी मूल किताब का नाम है: ‘द जर्नी होम : आटोबायोग्राफी आफ एन अमेरिकन स्वामी’. इसका हिंदी अनुवाद है ‘अनोखा सफर – एक अमेरिकी स्वामी की आत्मकथा’ नाम से. नए साल की सुबह से लेकर अभी तक इसे ही पढ़ता रहा और अब जाकर खत्म कर पाया हूं. न नहाना याद रहा, न खाना. न भड़ास, न मेल, न फेसबुक. बस, किताब को पढ़ता और पढ़ता ही जाता… इस किताब और स्वामी राधानाथ जी के बारे में जानने के पहले यह जान लेते हैं कि इस किताब को पढ़ने का सौभाग्य मुझे कैसे मिला..

नव वर्ष से कुछ रोज पहले प्रभात खबर के प्रधान संपादक और जाने-माने पत्रकार हरिवंश जी से फोन पर जीवन, संसार, करियर, संन्यास आदि चीजों को लेकर बात हो रही थी तो उन्होंने मुझे इस किताब को पढ़ने की सलाह दी. मेरे आश्चर्य का ठिकाना तब न रहा जब देखा कि हरिवंश जी ने मेरे पते पर यह किताब न सिर्फ भिजवा दी है बल्कि किताब पर स्वामी राधानाथ के हस्ताक्षर भी हैं. किताब के साथ हरिवंश जी का एक पत्र, जिसमें किताब पढ़कर इसके बारे में बताने को कहा है. अभी तो मैं इस किताब की समीक्षा करने की स्थिति में नहीं हूं क्योंकि इस किताब या आत्मकथा या जीवन वृत्तांत या आत्मा-परमात्मा मिलन यात्रा को सहेज रहा हूं. कोशिश करूंगा कि इन महोदय रिचर्ड उर्फ स्वामी राधानाथ जी से मैं भी मिलूं क्योंकि ये सच में गुरु हैं, संत हैं, महामानव हैं. जितने तरह की मुश्किलें, खतरे, हमले इन्होंने अपनी यात्रा में झेले देखे पाए हैं, जितने प्रयोग उन्होंने किए हैं, जितनी तरह की साधनाएं उन्होंने की हैं और इन दिनों जिस किस्म का सोशल व स्प्रिचुवल वर्क वे कर रहे हैं, उसे प्रभु कृपा या चमत्कार या असाधारण परिघटना कह सकते हैं..

इन राधानाथ स्वामी और इनकी किताब के बारे में हरिवंश जी बताते हैं: ”दुनिया भर में जिस पुस्तक की आज धूम है, द जर्नी होम-ऑटोबायोग्राफी आफ एन अमेरिकन स्वामी (हिंदी में अनोखा सफर-एक अमेरिकी स्वामी की आत्मकथा) यह महज पुस्तक नहीं है. 1970 के दौर में अमेरिका में जो हिप्पी आंदोलन हुआ, जो यथास्थिति के खिलाफ संपूर्ण विद्रोह था, नकार था, उससे प्रभावित एक बेचैन युवक के जीवन अनुभव का दस्तावेज है. क्या जीवन वही सबकुछ है, जिसे हम बाह्य तरीके से देखते हैं? जो हमारी नजरों के सामने है? या इस दृष्टि से पार भी कुछ है? हम क्यों जन्मते हैं? यह जीवन सोद्देश्य है या निरुद्देश्य? इसकी तलाश है, इस पुस्तक में! आज भोग में ही सुख और आनंद की तलाश है. पर बहुत पहले बीमार और उपभोक्तावाद की सभ्यता को विनोबा जी ने इंद्रियजीवी कहा था. आज वह उत्कर्ष पर है. धन में ही मुक्ति की तलाश है. इसलिए बेचैनी है. तनाव है. मानसिक बीमारी है. डिप्रेशन है. जीवन में भी, समाज में भी. पर क्या जीवन यही है या इसके पार भी जीवन में कुछ है? अनोखा सफर (द जर्नी होम) एक ऐसे व्यक्ति का अनुभव संकलन है, जो जीवन के अर्थ की तलाश करते हैं. होने (बीइंग) का मर्म जानना चाहते हैं! इस प्रक्रिया में उन्हें विलक्षण अनुभव होते हैं. वह अमेरिका से लंदन आते हैं. लंदन से बिना धन और सुविधाओं के बस, ऊंट, पैदल या नाव से चल कर कई महीनों बाद भारत पहुंचते हैं. हिमालय में उन्हें विलक्षण संत मिलते हैं. वह कठोर साधना करते हैं. वह भारत और नेपाल के दुर्गम हिस्सों में जाते हैं. पग-पग पर मौत का सामना करते. महीनों गंगा किनारे जल पीकर और रोज एक गाजर खाकर तप करते हैं. विलक्षण साधु-संतों से मिलते हैं, जो उनके अतीत के बारे में सब कुछ बता देते हैं. भविष्य का संकेत भी देते हैं. सच्चे, अर्थपूर्ण और अद्भुत अनुभव, हरेक इंसान के लिए प्रेरक, पर खासतौर से युवा पीढ़ी को जीवन का सही अर्थ बताते हैं. दिशा देते हैं. जीने की राह दिखाते हैं.”

अमेरिकी स्वामी राधानाथ जी के बारे में थोड़ा और जान लेते हैं. वे 1950 में अमेरिका के शिकागो में जन्मे. किशोरावस्था में ही हिप्पी आंदोलन से प्रभावित होकर वह ईश्वर की खोज में निकल पड़े. छह महीने तक सड़क मार्ग से पैदल चलते और बस से होते हुए वह लंदन से भारत पहुंचे. भारत पहुंच कर वह अदभुत साधना, तप और ध्यान में डूबे. हिमालय की गुफाओं से लेकर भारत के आध्यात्मिक केंद्रों में रह कर कठिन साधना की. अदभुत अध्यात्मिक महापुरुषों से मिले व उनके सानिध्य में रहे. 20वीं सदी के अंतिम दशक में शायद खुद को तलाशने या ईश्वर को जानने के लिए इतनी अनूठी यात्रा किसी ने नहीं की होगी. मात्र 19 वर्ष की उम्र में उनका अमेरिका से लंदन, फिर यूरोप एवं मध्य एशिया के सड़क मार्ग से चल कर भारत पहुंचना, हिमालय के वनों एवं गुफाओं में विख्यात योगियों, नागा बाबाओं, लामाओं एवं साधु-संतों के सानिध्य में शिक्षा ग्रहण करना, उन्हें देखना, जानना अदभुत है. अंतत: भारतीय अध्यात्म के केंद्र बिंदु तक पहुंचना. अलौकिक प्रेम पाना और फिर दुनिया में बांटना. ऐसे हैं, स्वामी राधानाथ जी. आज दुनिया उन्हें सुनने के लिए बेचैन है. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा व ब्रिटेन की संसद से लेकर हावर्ड, कैंब्रिज, बोस्टन, कोलंबिया, स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी जैसे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ शिक्षण संस्थानों के लोग उन्हें सुनने के लिए आतुर रहते हैं. स्वामी राधानाथ जी ने योगियों, गुरुओं और साधुओं की अध्यात्म भूमि भारत में अदभुत खोज की. इनकी पुस्तक ‘द जर्नी होम ऑटोबायोग्राफी ऑफ एन अमेरिकन स्वामी (हिंदी अनुवाद : अनोखा सफर-एक अमेरिकी स्वामी का आत्मकथा) की दुनिया में धूम है. पिछले दिनों प्रभात खबर के सौजन्य से पटना और रांची के लोगों को इस दुर्लभ अमेरिकी स्वामी राधानाथ को सुनने का मौका भी मिल चुका है. रांची में स्वामी राधानाथ ने अपने प्रवचन में क्या-क्या कहा और बताया… उसे जरूर जानिए-पढ़िए… नीचे दिया जा रहा है, प्रभात खबर से साभार लेकर.. प्रवचन में काफी कुछ अनुभव तो वही हैं जो विस्तार से उनकी आत्मकथा में दर्ज है… बनारस, इलाहाबाद, हिमालय, मृत्यु, ज्ञान, गंगा… सब कुछ तो है… पढ़िए, जो जो राधानाथ स्वामी ने रांची में कहा…

”यह मेरा सौभाग्य है कि मैं रांची शहर में आपके साथ हूं. श्री कृष्ण ने गीता में कहा है कि दुनिया के हर जीव के सृष्टि कर्ता ईश्वर हैं. इसलिए हर जीव में ईश्वर का अंश है. इसलिए सही रूप से ज्ञानी, बुद्धिमान या ज्ञाता वही है, जो हर जीव या व्यक्ति को समान दृष्टि से देखता है. चैतन्य महाप्रभु जब जंगलों से गुजर रहे थे, तो उन्होंने सभी वन्य प्राणियों को हरे राम हरे कृष्ण कहने को प्रेरित किया. जंगल का हर एक जीव दूसरे का दुश्मन होता है, पर हरि नाम की पवित्रता से सभी एक दूसरे को गले लगा रहे थे. हम सब को जिज्ञासा होती है कि मैं कौन हूं? भगवान कौन है? हमारा आपसी रिश्ता क्या है? श्री कृष्ण ने भी गीता में यही सवाल किया है. वह हमारे आध्यात्मिक व भौतिक जीवन के स्रोत हैं. कृष्ण कहते हैं कि इस शरीर के परे आत्मा है, जो कभी मरती नहीं है. जब हम अपनी आत्मा को जान लेते हैं, तभी प्रेम भाव समझ पाते हैं. भगवत पुराण के अनुसार जैसे किसी वृक्ष की जड़ में पानी देने से वह पूरे पौधे में चला जाता है, उसी तरह आत्मा जग जाये, तो हर जीव के प्रति हमारा प्यार भी जग जाता है. यही सनातन धर्म है. सार तत्वों को जानना ही है सनातन धर्म. संत या साधु सार ग्रही होते हैं. यह सार प्रेम है. इस प्रेम में हर जीव भगवान का अंश लगता है. चैतन्य प्रभु कहते हैं कि जागो, अपने अंदर के सार तत्व को पहचानो. यह हो जाये, तो आप चाहे जिस पेशे में हों, सांसारिक हों या साधु, दुनिया में जहां भी रहेंगे, खुश रहेंगे. ब्रह्मा सूत्र बताता है कि दुनिया में हर जीव आनंद की तलाश में है. चींटी व मच्छर भी. यानी जहां जीवन है, वहां आनंद की तलाश है. पर यह आनंद हमारे स्वयं की प्रवृत्ति है. यह बात पूरे ब्रह्मांड में लागू होती है. आज की शाम क्रिसमस की शाम है. यीशु भी भगवान के प्रति प्रेम की बात कहते हैं. बिना किसी अवरोध के भगवान के प्रति प्यार होना चाहिए. जीवन का अर्थ क्या है? हम सब इसके मतलब की तलाश में हैं. मैंने अपनी किताब द जर्नी होम (अनोखा सफर) में यही जानने की कोशिश की है. मैं अमेरिका (शिकागो) में पैदा हुआ तथा वही बढ़ा. जब मैं छोटा था, तो कई विचित्र बातें हुईं. मेरे माता-पिता इस बात को समझ नहीं पाये. गरीबों के प्रति मैं बहुत सहानुभूति रखता था. अमेरिका मुक्त देश है. वैभवशाली व समृद्धशाली लोगों का पावरफुल देश. पर वहां आनंद नहीं था. मैं सोचता था कि जीवन का अर्थ व सही रास्ता क्या है? शुरू में मैं थोड़ा राजनीतिक हुआ, विद्रोही भी. फिर मैंने महसूस किया कि अहंकार की जो भावना अन्य में है, वहीं मेरे अंदर भी है. मैंने सोचा कि मुझे बदलना होगा. यह बदलाव सिर्फ आध्यात्मिकता से ही संभव था.

मैं यूरोप गया, पर मेरे अंदर से आवाज आयी कि मुङो भारत जाना चाहिए. कैसे व किधर, नहीं पता. मेरे पास पैसे भी नहीं थे. मैंने यह सोच कर पूर्व की ओर चलना शुरू किया, कि एक दिन भारत पहुंच जाऊंगा. अंतत: मैं हिमालय पहुंचा. वहां पहले ही दिन एक योगी ने मुङो साधु का वस्त्र पहनने को दिया. वहां मैं गंगा के बीच एक पत्थर पर बैठ कर सूर्योदय से सूर्यास्त तक प्रार्थना करता था. उस दौरान मैंने इतना ज्ञान पाया, जितना अपने 19 साल के जीवन में तमाम पढ़ाई के बाद भी नहीं पा सका था. सप्ताह दर सप्ताह प्रार्थना करते-करते एक दिन शायद गंगा मां की ही आवाज आयी हरे राम..हरे कृष्ण..मुझे इसका अर्थ नहीं मालूम था. यह भी नहीं पता था कि ये राम और कृष्ण कौन हैं. पर मैं गंगा मां की उस आवाज के साथ-साथ बस दोहरा रहा था..हरे राम..हरे कृष्ण …इसके बाद यही मेरा सबसे बड़ा ध्यान बन गया. वहां से मैं वाराणसी आया. वहां घाट पर जलते शवों को देख कर जीवन के बारे सोचता था. उसी गरमी में मैं प्रयाग चला आया. यह वर्ष 1971 की बात है. त्रिवेणी संगम पर गंगा, यमुना व सरस्वती की धाराएं आपस में मिल रही थी. मुझे अदभुत अहसास हो रहा था. मैं संगम के बीच चला गया. यही वह जगह है जहां स्नान करने हजारों लोग आते हैं. पर वह तपती दोपहरी थी. वहां दूर-दूर तक कोई नहीं था.

मुझे लगा कि शायद मैं भी यहां दोबारा नहीं आ सकूंगा. मैं संगम में नहाने लगा और फिर इसे पार कर दूसरे किनारे चला गया. वहां सन्नाटा था. मैं थक गया था. कुछ कदम मैं बालू पर चला. अचानक लगा कि कोई चीज मुझे धरती की ओर खींच रही है. नीचे और नीचे. मैं घुटने तक अंदर चला गया. तभी मैंने समझा कि मैं दलदल में फंस गया हूं. धीरे-धीरे कमर तक बालू में धंस गया. थका, हारा, बेसहारा..मुङो लगा कि मौत निकट है. तभी वहां एक झाड़ी नजर आयी. पूरी ताकत लगाने के बाद मैंने हाथ से वह झाड़ी पकड़ ली. उसमें पत्ते नहीं थे. बेहद कंटीली झाड़ी. मैं उसके सहारे खुद को बाहर निकालने की कोशिश करने लगा. पर यह क्या. बाहर निकलने के लिए मैं जितना प्रतिरोध कर रहा था, मैं उतना ही अंदर धंसता जा रहा था. मेरे हाथ भी लहूलुहान हो गये थे. मौत नजदीक देख कर मैं प्रार्थना करने लगा. मन से ध्यान करने लगा हरे राम-हरे कृष्ण..शांत रहने पर मुझे अच्छा लगा.

मैं एकदम शांत हो गया. लगा कि अपने को शिथिल कर इस दलदल से निकला जा सकता है. इसी शिथिलता के साथ अपने पैर मोड़ कर मैंने बाहर निकलने की कोशिश की. मैं बाहर निकलने लगा और अंतत: बाहर आ गया. फिर उस दलदल में हल्के पांव रखते हुए मैं नदी की धारा की ओर लौट आया. मैंने सोचा कि नदी के दूसरे छोर पर जाने के लिए मुझे यमुना की तेज धारा के विपरीत तैरना होगा. मैं तैर रहा था पर किनारा नहीं दिख रहा था. गंगा मुझे वापस उसी दलदल की ओर धकेल रही थी. तभी थोड़ी दूर एक नाव दिखायी दी.

मैं चिल्ला रहा था पर नाविक सुन नहीं रहा था. अचानक उसने हाथ उठा कर कुछ इशारा किया और मुझे वहां छोड़ चला गया. अब मेरे पास दो विकल्प थे. गंगा में मरूं या फिर दलदल में. मैंने गंगा में ही मरने का निर्णय लिया. मैं सोचने लगा कि मैंने इसी गंगा से बहुत कुछ सीखा था. इसका ही पानी पिया था. आज वही गंगा मेरी जान ले रही थी. मैं अंदर डूब रहा था. गंगा का पानी मेरे मुंह में जा रहा था. यह ध्यान करते ही मुझे शांति मिली. दिल से फिर वही हृषिकेश वाली गंगा की आवाज आयी..हरे राम..हरे कृष्ण..मुझे खुशी मिलने लगी.

मैंने सोचा मैं पहले धारा के विपरीत क्यों जा रहा था, इसके साथ क्यों नहीं. मैं धारा के साथ बह कर दूसरे किनारे पहुंचा. मेरे पासपोर्ट वहीं किनारे पर रखा था. बहुत सारे लोग वहां स्नान कर रहे थे. वहां पहुंच कर देखा मेरा पासपोर्ट सुरक्षित था. मैं बालू पर बैठ गया. उसी दिन मैंने गंगा को मां स्वीकार कर लिया. मां गंगा..गंगा मां. दरअसल गंगा मुझे एक सीख दे रही थी. भगवान की कृपा की सीख. यहां से मैं अमरनाथ जाने लगा. बीच में तीन दिन के लिए वृंदावन (बरसाना) में रुक गया. यहीं मुझे टायफाइड हो गया. मैं सख्त बीमार था. जमीन पर बेसुध पड़ा हुआ. मुझे मरा समझ कर मेरी छाती में गिद्ध चोंच मार रहे थे.

किसी ने मुझे वहां से उठा कर अस्पताल पहुंचाया. ठीक होने के बाद मैं गीता, भगवत पुराण पढ़ने और समझने लगा. मैंने सोच लिया था कि अब वृंदावन कभी नहीं छोड़ूंगा. ठंड की रात थी. मेरे पास कपड़े नहीं थे. मंदिर की घंटी की आवाज सुनकर मैं भोर में वहीं नदी में स्नान करता था. एक रात मुझे सपना आया कि मैं अपने घर अमेरिका में हूं. गरम कपड़ों के साथ वहां आराम की सारी चीजें हैं. पास के कमरे में टीवी चल रहा है. मैंने सोचा कि मैं यहां वापस क्यों आया. मैं रोने लगा. कहा कि मैं वापस वृंदावन जाना चाहता हूं. इसी स्थिति में मैं जग गया. मैं लगातार रो रहा था. कह रहा था कि मुङो वापस वृंदावन जाना है. अचानक मुझे ठंड लगने लगी. मुझे एहसास हुआ कि मैं तो वृंदावन में ही हूं. मैंने तो कभी वृंदावन छोड़ा ही नहीं था. मैंने उस धरती को प्रणाम किया. वर्षों बाद साधु-संतों की संगत, सत्संग, साधना, सेवा व तप से मुझे पता चला कि हमारा भौतिक शरीर चाहे कहीं हो, आत्मा उसी स्थान पर रह सकती है. कृष्ण का मतलब है सार व आकर्षण. ईश्वर या परमात्मा अलग-अलग समय में अलग-अलग अवतार लेते हैं. सनातन धर्म के लिए. आत्मा के साक्षात्कार व इसकी क्षमता जानने के लिए. मुझे हाउस ऑफ लॉर्डस, लंदन बुलाया गया था. वहां प्रवचन के दौरान मैंने एक बहुत साधारण बात कही, जिस पर वहां मौजूद सभी लोगों ने जोरदार तालियां बतायी. आप जानना चाहते है? मैंने कहा कि आप यह सोचे कि आपके पास ऐसी कौन-कौन सी चीज नहीं है, जो पैसे से नहीं खरीदी जा सकती. उन सारी चीजों को हम ईश्वर के नाम से जोड़ सकते हैं. मेरी किताब द जर्नी होम (अनोखा सफर), एक अमेरिकी स्वामी की आत्मकथा अपने अंदर के ईश्वर यानी कृष्ण को खोजने का माध्यम है. यह हो गया, तो हम कहीं भी हों, हमें लगेगा कि हम अपने घर में हैं. बहुत-बहुत धन्यवाद!”

3 जनवरी 2014 की पोस्ट

द्वारा स्वामी भड़ासानंद यशवंत

संपर्क swamibhadasanand@gmail.com

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *